Motivational Story In Hindi For Depression

Motivational Story In Hindi For Depression | Short Motivational Stories With Moral | मोटिवेशनल स्टोरीज हिंदी में 

Motivational Story In Hindi For Depression : True Motivational Stories With Moral की हम सभी को समय समय पर जरुरत पड़ती हैं क्युकी हम सभी को लाइफ के हर स्टेज पर थोड़े से मोटिवेशन और सही दिशा की जरुरत पड़ती हैं। इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपके लिए एक inspirational stories for students लेकर आये हैं जो आपके जीवन में आपको एक अलग मुकाम पर पंहुचा देगी।

यदि आप चाहे तो हम आपको motivational story in hindi pdf भी दे सकते हैं बस आप हमें मेल भेज दीजिये। आज की यह स्टोरी inspirational stories of hope और खुद की वैल्यू को समझने पर हैं। तो चलिए अब शुरू करते हैं Best Motivational Story In Hindi.

MotivationalStoryInHindiForDepression

Best Motivational Story In Hindi For Depression

पर एक बच्चे ने अपने पापा से पूछा पापा मेरी लाइफ की क्या वैल्यू है?

तभी उसके पापा ने कहा अगर तुम सच में अपनी जिंदगी की कीमत समझना चाहते हो, तो मैं तुम्हें एक पत्थर देता हूं। तुम इस पत्थर को लेकर तुम मार्केट में चले जाना और अगर कोई पूछे तो कुछ मत कहना बस अपनी 2 अंगुली उठा देना। वह लड़का मार्केट पहुँच गया और वहाँ कुछ देर ऐसे ही बैठा रहा लेकिन, कुछ देर बाद एक बूढ़ी औरत उसके पास आई और बोली बेटा इस पत्थर कि कीमत क्या हैं?

उस समय लड़का चुप चाप खड़ा रहा और उसने एक शब्द बोले बिना ही अपनी दो उँगलियाँ उस बूढी औरत के सामने खड़ी कर दी। तभी वो बूढी औरत बोली 200 रूपए, ठीक हैं। इस पत्थर को में तुमसे खरीद लुंगी। वो बच्चा एकदम से चोंक गया की एक पत्थर की कीमत 200 रूपए, चूँकि पत्थर तो कहीं पर भी मिल जाता हैं लेकिन उसका प्राइस 200 रूपए नहीं होता। वो बच्चा तुरंत अपने पापा के पास गया और बोला, पापा मुझे मार्केट में एक बूढी औरत मिली थी और वो औरत मुझे इस पत्थर के 200 रूपए देने को तैयार हो गयी थी।

तभी उस बक्से के पापा ने कहा इस बार तुम इस पत्थर को म्यूजियम में लेकर जाना और अगर कोई इसका प्राइस पूछे तो कुछ भी बोलना मत और चुप चाप अपनी दो उंगलिया उठा देना।

वो लड़का म्यूजियम में गया और वहां पर एक बूढ़े आदमी की नजर उस बच्चे के हाथ में रखे उस पत्थर पर पड़ी। और तभी अचानक से वो बूढ़ा आदमी दौड़ के उस बच्चे के पास आया और पूछने लगा की बेटा तुम इसको कितने में बेचना चाहते हो? वो बच्चा एकदम चुप रहा जैसा की उसके पिता ने समझाया था और उसने अपनी दो उँगलियाँ कड़ी कर दी।

तभी वो बूढ़ा आदमी बोला 20,000 रूपए! ठीक हैं, में तुम्हे इस पत्थर के लिए 20,000 रूपए देने को तैयार हूँ। बस यह पत्थर तुम मुझे देदो। इस बार वो लड़का पहले से ज्यादा हैरान और चौका हुआ था। सीधा अपने पापा के पास गया और बोला पापा मुझे म्यूजियम में एक आदमी मिला था जो इस पत्थर के लिए मुझे 20,000 रूपए देने को तैयार था।

तभी उसके पापा ने कहा अब में तुम्हे आखिरी जगह भेजने जा रहा हु। इस बार उस बच्चे के पिता ने उसको एक किमती पत्थरों की दूकान पर भेज दिया। और फिर से उसके पापा ने कहा इस बार तुमसे अगर कोई इसका प्राइस पूछे तो कुछ भी बोलना मत और चुप चाप अपनी दो उंगलिया खड़ी कर देना।

वो लड़का जल्दी से कीमती पत्थरों की दूकान पर गया और उसने देखा की काउंटर के पीछे एक आदमी खड़ा था। जैसे ही उस बूढ़े इंसान की नजर उस किमती पत्थर पर पड़ी तो वो एकदम शॉकेड हो गया।

वो आदमी जल्दी से काउंटर के पीछे से बहार निकला और तुरंत वो पत्थर उस बच्चे के हाथो छीन लिया और बोलै ओह माय गॉड। इस पत्थर की तलाश में मेने अपनी पूरी जिंदगी लगा दी कहा से मिला तुमको यह पत्थर और तुम इसको कितने में बेचोगे?

वो बच्चा हर बार की तरह इस बार भी चुप रहा और अपनी दो उंगली को खड़ी कर दी। और तभी वो आदमी बोला कितने 2,00,000 रूपए! ठीक हैं, में तुम्हे इस पत्थर के इतने पैसे देने को तैयार हूँ, प्लीज तुम इस पत्थर को मुझे देदो। वो बच्चे अब कुछ भी समझ नहीं आ रहा था और वो दौड़ के अपने पापा के पास गया और उनको सारी बात बताई।

Moral Of This Motivational Story In Hindi

तभी उसके पापा ने कहा की क्या तुम्हे अब अपनी लाइफ की वैल्यू समझ आयी। इस लाइफ की वैल्यू इस बात पर डिपेंड करती हैं की आप अपने आप को कहाँ रखते हैं। यह आपको तय करना हैं की आप अपने आप को 200 रूपए का पत्थर बनाना चाहते हैं या फिर 2,00,000 की।

कुछ लोग जिंदगी में सिर्फ आपके लिए जीते हैं और कुछ लोग आपको सिर्फ एक उपयोग की चीज मानते हैं, अब आपको देखना है की आप अपनी लाइफ की वैल्यू कैसे।

1 thought on “Motivational Story In Hindi For Depression”

Leave a Comment